माइनिंग का इतिहास

Toncoin को PoW गिवर्स द्वारा बांटा गया था जो उन्हें असाइन किए गए Toncoin की निश्चित राशि के साथ स्मार्ट कान्ट्रैक्ट हैं

Toncoin की माइनिंग सफलतापूर्वक ख़त्म हो गई है

जून 2020 में, सभी उपलब्ध Toncoin टोकन (कुल सप्लाई के 98.55%) माइनिंग के लिए उपलब्ध हो गए। , जिससे 28 जून 2022 तक हर किसी को माइनिंग में भाग लेने की अनुमति के साथ — टोकन को विशेष गिवर स्मार्ट कान्ट्रैक्ट में रखा गया था। यूजर ने हर दिन लगभग 200,000 TON टोकन की माइनिंग की।
आज, दो साल बाद, आखिरी Toncoin को माइन किया गया, जो कि TON के शुरुवाती डिस्ट्रीब्यूशन का सफलतापूर्वक बंद होने का संकेत देता है।

घटना (फिनामनान)

प्रूफ-ऑफ-स्टेक TON ब्लॉकचेन पर माइनिंग देखने में एक अनोखी घटना थी। पुरानी पीढ़ी के ब्लॉकचेन, जैसे बिटकॉइन, प्रूफ-ऑफ-वर्क सर्वसम्मति एल्गोरिदम का उपयोग करते हैं। इस प्रकार के नेटवर्क के लिए, माइनिंग एक अभिन्न और महत्वपूर्ण घटक है। माइनर्स की वजह से, नेटवर्क ऑनलाइन रहता है, नए ब्लॉक बनाए जाते हैं, और नए कॉइन जारी किए जाते हैं, जिन्हें माइनर्स स्वयं अपनी सेवाओं के लिए पुरस्कार के रूप में एकत्र करते हैं।
ताज़ा नये कॉइन केवल माइनिंग के माध्यम से ही प्राप्त किये जा सकते हैं। जब यह विचार किया जाता है कि कोई भी माइनर बन सकता है, तो इससे नेटवर्क के प्रतिभागियों के बीच टोकन का अधिक ईमानदार और समान वितरण होता है।
अगली पीढ़ी के ब्लॉकचेन प्रूफ-ऑफ-स्टेक सर्वसम्मति एल्गोरिथ्म का उपयोग करके संचालित होते हैं। इन नेटवर्कों के लिए, माइनिंग की आवश्यकता नहीं है, जो प्रभावी रूप से ब्लॉकचेन को लेनदेन के लिए काफी तेज और अधिक किफायती बनाती है। हालाँकि, PoS ब्लॉकचेन पर, डेवलपर्स की उनकी टीमें शुरुआत में टोकन जारी करती हैं। आमतौर पर, वे निवेशकों, फंडों और उपयोगकर्ताओं को अपने टोकन के वितरण और बिक्री की देखरेख करते हैं। यह एक केंद्रीकृत वितरण रणनीति है जो विकेंद्रीकृत प्रौद्योगिकियों की भावना और सिद्धांतों का खंडन करती है।
TON ब्लॉकचेन दो सर्वसम्मति एल्गोरिदम को संयोजित करने वाला पहला ब्लॉकचेन था। ब्लॉकचेन प्रूफ-ऑफ-स्टेक तकनीक पर चलता है, जो इसे तेज़ और सस्ता बनाता है, लेकिन प्रारंभिक टोकन वितरण माइनिंग द्वारा सक्षम किया गया था, जो विकेंद्रीकृत था और इसमें भाग लेने वाले सभी लोगों के लिए समान शर्तें थीं।
यह दृष्टिकोण, जिसे हमने प्रारंभिक प्रूफ-ऑफ-वर्क (IPoW) करार दिया है, तत्काल लाभ प्रदान करता है - इसका उपयोग निस्संदेह भविष्य की क्रिप्टो परियोजनाओं के लिए किया जाएगा। TON पर, कई समाधान और कार्यक्षमताएँ बनाई गई हैं, और उनमें से एक IPoW है।

आकस्मिक आविष्कार

TON पर माइनिंग अनायास और अनियमित ढंग से शुरू हुआ।
2020 में, अपने अदालती मामले के बाद, टेलीग्राम टीम अमेरिकी प्रतिभूति और विनिमय आयोग के साथ एक समझौते पर सहमत हुई और उसे ओपन नेटवर्क पर अपना काम बंद करने के लिए मजबूर होना पड़ा।
अंततः परियोजना में उनकी भागीदारी को रोकने के लिए और, साथ ही, उत्साही लोगों को प्रौद्योगिकी का अध्ययन जारी रखने की अनुमति देने के लिए, टेलीग्राम टीम ने नेटवर्क के सभी उपलब्ध कॉइन को स्मार्ट कॉन्ट्रैक्ट में डाल दिया, जिन्हें कोई भी समान शर्तों पर माइनिंग कर सकता था।
6 जुलाई, 2020 को वह दिन माना जाता है जब TON माइन का जन्म हुआ था; यह वही सही समय है जब रिपॉजिटरी में माइनर कोड को प्रकाशित किया गया था, और प्रोजेक्ट की वेबसाइट पर माइन कैसे करें पर एक गाइड पोस्ट प्रकाशित किया गया था।
उस वक़्त, ब्लॉकचेन अभी भी अपने टेस्टनेट में था, और टोकन का कोई मूल्य नहीं था और इसका इस्तेमाल सिर्फ टेस्टिंग उद्देश्यों के लिए किया जा सकता था। सबसे आश्चर्यजनक बात यह थी कि माइन शुरू होने के एक साल बाद, पूरा Toncoin माइनिंग इंडस्ट्री का विकास हो गया।

वितरण

अंतिम परिणाम यह हुआ कि सभी टोकन हजारों माइनर्स के बीच वितरित कर दिए गए। TON परियोजना ने ICO, IEO, या किसी अन्य प्रकार की टोकन बिक्री नहीं करने का निर्णय लिया। इसकी वृद्धि बिटकॉइन की तरह ही जैविक थी।
स्वाभाविक रूप से, किसी भी अन्य परियोजना की तरह, जिन लोगों ने शुरुआत में ही माइनिंग शुरू कर दी थी, उनके पास बहुत कम या कोई प्रतिस्पर्धा नहीं थी। हालाँकि, आप देखेंगे कि ये शुरुआती माइनर्स उन परियोजनाओं और प्रौद्योगिकी के प्रति सबसे अधिक भावुक होते हैं जिनका वे अनुसरण करते हैं।
एक उदाहरण TON माइनर्स के सभी दान का है जिसके कारण TON फाउंडेशन और TON रिज़र्व का निर्माण हुआ, इन दोनों पर नेटवर्क विकसित करने के लिए भरोसा किया जाएगा।
हालाँकि सभी PoW गिवर स्मार्ट कान्ट्रैक्ट पूरी तरह से खाली हो गए हैं और TON माइनिंग अब पारम्परिक अर्थों में उपलब्ध नहीं है, TonWhales टीम ने माइनर्स के लिए एक आकर्षक सलूशन बनाया है जो Toncoin की माइनिंग जारी रखना चाहते हैं: पर्पेचूअल Toncoin माइनिंग का एक पूल जिसे इन्फिनिटी TON माइनिंग पूल कहा जाता है।
इन्फिनिटी माइनिंग के बारे में और जानें

आगे क्या है

कॉइन के शुरुवाती वितरण के बाद, TON एक नए चरण में प्रवेश करता है, वैलीडेशन में वैलीडेटर और कॉइन की संख्या में वृद्धि शामिल है, जिससे नेटवर्क की स्थिरता और सुरक्षा को मजबूत किया जाता है।
TON एक प्रूफ-ऑफ-स्टेक ब्लॉकचेन है, जिसका मतलब यह है कि नेटवर्क बेरोकटोक चलता रहे यह सुनिश्चित करने के लिए विशेष नोड दी गई है कि — वैलीडेटर द्वारा संचालित।
जैसे-जैसे नेटवर्क आगे बढ़ता है, वैलिडेटर्स को उनके काम के लिए पुरस्कार के रूप में नया Toncoin बनाया जाता है। हर साल कुल आपूर्ति का लगभग 0.6% सृजित होता है। कोई भी वैलिडेटर बन सकता है - आपको बस एक शक्तिशाली सर्वर और हिस्सेदारी के लिए बड़ी मात्रा में Toncoin की आवश्यकता है।
TON पारिस्थितिकी तंत्र में नोमिनटर्स हैं, एक उपकरण जो हितधारकों को आय साझा करते समय दांव लगाने के लिए वैलिडेटर को टोकन उधार देने की अनुमति देता है।
प्रस्तावक के बारे में और जानें